• Ek Din Sirf Apne Liye

Ek Din Sirf Apne Liye

  • Book ISBN: 9789385804304
  • Availability: In Stock
  • 200.00

    250.00

Qty


About the Book

एक दिन.... सिर्फ अपने लिये

तेरी बंदगी से मिली है मेरे वजूद को शोहरत,
मेरा जिक्र ही कहाँ था तेरी रहमतों से पहले।

यूँ तो साहित्य की हर विधा की अपनी अलग बानगी होती है। पर कहानी ... कहानी विधा के तो कहने की क्या? कहानी शब्दों में डूबती उतराती जिन्दगी है। कोई घटना, स्थिति, चरित्र, भाव अथवा विचार कभी यादों के सहारे तो कभी अनुभूति या चिन्तन के सहारे भीतर उतर जाते हैं और फिर एक नया रूप धारण कर शब्दों के सहारे वापस आ जाते हैं, मेरी समझ में वही कहानी होती है। उन्हीं कहानियों में कभी हम कल्पना के झरोखे से सच तलाशते हैं तो कभी सच के झरोखे से कल्पना।

About the Book
Author of book Dr. Rekha Pasariya
Book's Language Hindi
Book's Editions First
Pages of book 96
Publishing Year of book 2018

Related Products

Garima

Garima

80.00 100.00

Sudamacharit Kavya Ka Tulatmak Adhyayan

Tags: Short stories hindi, hindi story, hindi book, dr rekha patsariya

Bestseller Books

Ek Din Sirf Apne Liye

Ek Din Sirf Apne Liye

200.00 250.00

Prasad ka Chandragupt : Ek Anushilan
Surendra Verma Aur Athva Sarg
Sanjeev jandharmi kathashilpi

×